Search

Mahila Shayari (महिला शायरी) Pictures, Graphics & Messages For Facebook, Whatsapp, Pinterest, Instagram

Nari Hi Shakti Hai Nar KI

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 5

Download Image
नारी ही शक्ति है नर की
नारी ही है शोभा घर की,
जो उसे उचित सम्मान मिले
घर में खुशियों के फूल खिलें।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums

Contributor:

Beti-Bahu Kabhi Maa Bankar Apne Sab Farz Nibhati Hai

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 7

Download Image
बेटी-बहु कभी माँ बनकर
सबके ही सुख-दुख को सहकर
अपने सब फर्ज़ निभाती है
तभी तो नारी कहलाती है।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums

Contributor:

Nar Sam Adhikarini Hai Nari

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 5

Download Image
नर सम अधिकारिणी है नारी
वो भी जीने की अधिकारी
कुछ उसके भी अपने सपने
क्यों रौंदें उन्हें उसके अपने।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums

Contributor:

Har Path Ko Roshan Karnewali Wo Shakti Hai Ek Nari

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 8

Download Image
मुस्कुराकर, दर्द भूलकर रिश्तों में बंद थी दुनिया सारी
हर पथको रोशन करने वाली वो शक्ति है एक नारी।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums

Contributor:

Kyo Tyag Kare Nari Keval, Kyo Nar Dikhlaye Jutha Bal

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 5

Download Image
क्यों त्याग करे नारी केवल
क्यों नर दिखलाए झूठा बल
नारी जो जिद्द पर आ जाए
अबला से चण्डी बन जाए
उस पर न करो कोई अत्याचार
तो सुखी रहेगा घर-परिवार।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums

Contributor:

Usey Jine Ka Adhikar Do

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 5

Download Image
जिसने बस त्याग ही त्याग किए
जो बस दूसरों के लिए जिए
फिर क्यों उसको धिक्कार दो
उसे जीने का अधिकार दो।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums

Contributor:

Din Ki Roshni Khwabo Ko Banane Me Gujar Gayi

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 5

Download Image
दिन की रोशनी ख्वाबों को बनाने मे गुजर गई,
रात की नींद बच्चे को सुलाने मे गुजर गई,
जिस घर मे मेरे नाम की तखती भी नहीं,
सारी उमर उस घर को सजाने मे गुजर गई।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums

Contributor: