Sawan Two Line Shayari

सावन दो लाइन शायरी

वो भला क्यूँ कदर करते हमारे अश्को की
सुना है सावन उनके शहर पर कुछ ज्यादा मेहरबान रहता है

सावन की बूंदों में झलकती है उसकी तस्वीर
आज फिर भीग बैठे उसे पाने की चाहत में

जब चले जाएँगे हम लौट के सावन की तरह
याद आयेंगे पहले प्यार के चुम्बन की तरह

वो तेरा शरमा के मुझसे यूँ लिपट जाना
कसम से हर महीने में सावन सा अहसास देता है

अब के सावन में ये शरारत मेरे साथ हुई
मेरा घर छोड़ के पुरे शहर में बरसात हुई

पतझड़ दिया था वक़्त ने सौगात में मुझे
मैने वक़्त की जेब से ‘सावन’ चुरा लिया

मालूम है ये सावन अगले बरस भी आएगा
पर तुम अभी आ जाओगे तो क्या बिगड़ जायेगा

लाख बरसे झूम के सावन मगर वो बात कहाँ
जो ठंडक पङती है दिल में तेरे मुस्कुराने से

सावन की बरसात की तरह झरने दो
ये तुम्हारा नाम मेरे सीने में, मेरी साँसों में रहने दो

जो गुजरे इश्क में सावन सुहाने याद आते हैं
तेरी जुल्फों के मुझको शामियाने याद आते हैं

Category: Shayari, Shravan Mas

Contributor:

~ Visit us daily for day wishes, quotes and festive greetings. ~

Leave a comment