Gudi Padwa Shubhkamna Shayari

गुड़ी पड़वा शुभकामना शायरी

बीते पल अब यादों का हिस्सा हैं
आगे खुशियों का नया फ़रिश्ता हैं
बाहे फैलाये करो नए साल का दीदार
आया हैं आया गुड़ी का त्यौहार

मधुर संगीत का साज खिले
हर एक पल खुशियाँ ही खुशियाँ मिले
दिया बाती से सजाओ गुड़ी का यह पर्व
ऐसे ही रोशन रहे यह नव वर्ष

चुलबुला सा प्यार सा बीते यह साल
नव वर्ष में हो खुशियों का धमाल
गणगोर माता का मिले आशीष
इसी दुआ में झुकाते हैं शीष
हर एक दिन हो मुस्कान से खिला
छाई रहे खुशियों की मधुर बेला

गुड़ी पड़वा की हैं अनेक कथाये
गुड़ी ही विजय पताका कहलाये
पेड़ पौधों से सजता हैं चैत्र माह
इसलिए हिन्दू धर्म में यह नव वर्ष कहलाये

हिंदू नव वर्ष की हैं शुरुवात
कोयल गाये हर डाल- डाल पात-पात
चैत्र माह की शुक्ल प्रतिपदा का हैं अवसर
खुशियों से बीते नव वर्ष का हर एक पल

आई हैं बहारे, नाचे हम और तुम
पास आये, खुशियाँ और दूर जाए गम
प्रकृति की लीला हैं छाई
सभी को दिल से गुड़ी पड़वा की बधाई

वृक्षों पर सजती नये पत्तो की बहार
हरियाली से महकता प्रकृति का व्यवहार
ऐसा सजता हैं गुड़ी का त्यौहार
मौसम ही कर देता नववर्ष का सत्कार

शाखों पर सजता नये पत्तो का श्रृंगार
मीठे पकवानों की होती चारो तरफ बहार
मीठी बोली से करते, सब एक दूजे का दीदार
चलो मनाये हिन्दू नव वर्ष इस बार

घर में आये शुभ संदेश
धरकर खुशियों का वेश
पुराने साल को अलविदा हैं भाई
हैं सबको नवीन वर्ष की बधाई

Category: Gudi Padwa

Contributor:

~ Visit us daily for day wishes, quotes and festive greetings. ~

Leave a comment