Shayari SMS Collection for Facebook, Whatsapp, Pinterest, Instagram & Other Social Sites.

Sawan Four Line Shayari

सावन चार लाइन शायरी

इस सावन में हम भीग जायेंगे
दिल में तमन्ना के फूल खिल जायेंगे
अगर दिल करे मिलने को तो याद करना
बरसात बनकर हम बरस जायेंगे

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझसे मेरी ज़वानी
मगर मुझको लौटा दो वो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती वो बारिश का पानी

मौसम है सावन का और याद तुम्हारी आती है
बारिश के हर कतरे से आवाज़ तुम्हारी आती है
बादल जब गरजते हैं, दिल की धड़कन बढ़ जाती है
दिल की हर इक धड़कन से आवाज़ तुम्हारी आती है

सावन में हम पानी बनकर बरस जायेंगे
पतझड़ में फूल बनके बिखर जायेंगे
क्या हुआ जो हम आपको तंग करते हैं
कभी आप इन लम्हों के लिए भी तरस जायेंगे

तेरा उलझा दामन मेरी अंजुमन तो नहीं
जो मेरे दिल में है शायद तेरी धड़कन तो नहीं
यू यकायक मुझे बरसात की क्यों याद आई
जो घटा है तेरी आँखों में वो सावन तो नहीं

ऐ सावन की बारिश जरा थम के बरस
जब मेरा सनम आ जाए तो जम के बरस
पहले ना बरस कि वो आ न सके
जब वो आ जाए तो इतना बरस कि वो जा न सके

सावन का ये मौसम कुछ याद दिलाता हैं
किसी के साथ होने का एहसास दिलाता हैं
फ़िज़ा भी सर्द हैं यादें भी ताज़ा हैं
ये मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता हैं

बनके सावन कहीं वो बरसते रहे
इक घटा के लिए हम तरसते रहे
आस्तीनों के साये में पाला जिन्हें
साँप बनकर वही रोज डसते रहे

फूल से दोस्ती करोगे तो महक जाओगे
सावन से दोस्ती करोगे तो भीग जाओगे
हमसे करोगे तो बिगड़ जाओगे
और नहीं करोगे तो किधर जाओगे

Contributor:

Sawan Two Line Shayari

सावन दो लाइन शायरी

वो भला क्यूँ कदर करते हमारे अश्को की
सुना है सावन उनके शहर पर कुछ ज्यादा मेहरबान रहता है

सावन की बूंदों में झलकती है उसकी तस्वीर
आज फिर भीग बैठे उसे पाने की चाहत में

जब चले जाएँगे हम लौट के सावन की तरह
याद आयेंगे पहले प्यार के चुम्बन की तरह

वो तेरा शरमा के मुझसे यूँ लिपट जाना
कसम से हर महीने में सावन सा अहसास देता है

अब के सावन में ये शरारत मेरे साथ हुई
मेरा घर छोड़ के पुरे शहर में बरसात हुई

पतझड़ दिया था वक़्त ने सौगात में मुझे
मैने वक़्त की जेब से ‘सावन’ चुरा लिया

मालूम है ये सावन अगले बरस भी आएगा
पर तुम अभी आ जाओगे तो क्या बिगड़ जायेगा

लाख बरसे झूम के सावन मगर वो बात कहाँ
जो ठंडक पङती है दिल में तेरे मुस्कुराने से

सावन की बरसात की तरह झरने दो
ये तुम्हारा नाम मेरे सीने में, मेरी साँसों में रहने दो

जो गुजरे इश्क में सावन सुहाने याद आते हैं
तेरी जुल्फों के मुझको शामियाने याद आते हैं

Contributor:

Aankhe Shayari

आँखे शायरी

ना देखा करो इन नशीली आँखों से
हमे नशा चढ़ जाएगा,
ना जलाया करो इन अदाओ से
हमे मोहब्बत का रंग चढ़ जाएगा।

आँसुओं से जिनकी आँखें नम नहीं,
क्या समझते हो कि उन्हें कोई गम नहीं?
तड़प कर रो दिए गर तुम तो क्या हुआ,
गम छुपा कर हँसने वाले भी कम नहीं…..।।

आँखो की नजर से नही हम दिल की नजर से प्यार करते है.. .! ! !
आप दिखे या ना दिखे फिर भी हम आपका दीदार करते है…!!!

रात गुमसुम हैं मगर चाँद खामोश नहीं,
कैसे कह दूँ फिर आज मुझे होश नहीं,
ऐसे डूबा तेरी आँखों के गहराई में आज,
हाथ में जाम हैं,मगर पिने का होश नहीं|

प्यार में यू लफ्जों का इस्तेमाल न कर…
मैं आंखों से भी सुन लूंगा , तू नजरों से बयान तो कर

Contributor:

Love Shayari

Love Shayari

बहुत सुकून मिलता है जब उनसे हमारी बात होती है,
वो हजारो रातों में वो एक रात होती है,
जब निगाहें उठा कर देखते हैं वो मेरी तरफ,
तब वो ही पल मेरे लीये पूरी कायनात होती है ।

जिंदगी में कोई प्यार से प्यारा नही मिलता,
जिंदगी में कोई प्यार से प्यारा नही मिलता,
जो है पास आपके उसको सम्भाल कर रखना,
क्योंकि एक बार खोकर प्यार दोबारा नही मिलता।

Contributor: