Search

Atal Bihari Vajpayee Motivational Quote And Poem

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 25


पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भले ही इस दुनिया को अलव‍िदा कह गए हों लेकिन उनकी लिखी हुई यह कविता हमारे बीच जिंदा हैं।
अटलजी ने एक से बढ़कर एक कविताएं लिखीं है. लोग उनकी कविताओं को खूब पसंद करते हैं. उनकी कविताएं लोगों को जीने का तरीका सिखाती हैं. इस कव‍िता से मिटता है न‍िराशा का भाव, सफलता की सीढ़ियां चढ़ना हो जाएगा आसान…

क़दम मिला कर चलना होगा

बाधाएं आती हैं आएं
घिरें प्रलय की घोर घटाएं,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसें यदि ज्वालाएं,
निज हाथों में हंसते-हंसते,
आग लगाकर जलना होगा।
कदम मिलाकर चलना होगा।

हास्य-रूदन में, तूफानों में,
अगर असंख्यक बलिदानों में,
उद्यानों में, वीरानों में,
अपमानों में, सम्मानों में,
उन्नत मस्तक, उभरा सीना,
पीड़ाओं में पलना होगा।
कदम मिलाकर चलना होगा।

उजियारे में, अंधकार में,
कल कहार में, बीच धार में,
घोर घृणा में, पूत प्यार में,
क्षणिक जीत में, दीर्घ हार में,
जीवन के शत-शत आकर्षक,
अरमानों को ढलना होगा।
कदम मिलाकर चलना होगा।

सम्मुख फैला अगर ध्येय पथ,
प्रगति चिरंतन कैसा इति अब,
सुस्मित हर्षित कैसा श्रम श्लथ,
असफल, सफल समान मनोरथ,
सब कुछ देकर कुछ न मांगते,
पावस बनकर ढलना होगा।
कदम मिलाकर चलना होगा।

कुछ कांटों से सज्जित जीवन,
प्रखर प्यार से वंचित यौवन,
नीरवता से मुखरित मधुबन,
परहित अर्पित अपना तन-मन,
जीवन को शत-शत आहुति में,
जलना होगा, गलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums
See More here: Anmol Vachan (अनमोल वचन), Editor's Page

Contributor:

Leave a comment