Bat To Fir Bhi Nahi Rukti Dil Ki Dil Se Yaha


ये अलग बात है खामोशियों के पहरे है..
बात तो फिर भी नही रूकती दिल की दिल से यहाँ.

This picture was submitted by Balraj Sirohiwal 'sufi'.

More Pictures

  • Dil Shayari

Leave a comment