Hindi Diwas Shayari

Hindi Diwas Shayari
हिंदी का सम्मान, देश का सम्मान है,
हमारी स्वतंत्रता कहाँ है, राष्ट्रभाषा जहाँ है.
हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

सारा जहाँ ये जानता है
ये ही हमारी पहचान है,
संस्कृत से संस्कृति हमारी
हिंदी से हिंदुस्तान है।

जिसमें हैं मैंने ख्वाब बुने
जिससे जुड़ी मेरी हर आशा है,
जिससे है मुझे पहचान मिली
वो मेरी हिंदी भाषा है।

पिता की डांट से माँ की लोरियों तक
स्कूल की किताबों से यारों की टोलियों तक,
जिनसे जो कुछ भी मैंने पाया है
हिंदी भाषा ने इन सब में अपना किरदार निभाया है।

जब भी होता ये दिल भावुक
और ये जुबान लड़खड़ाती है,
ऐसे समय में बस अपनी
मातृभाषा ही काम आती है।

हमारी एकता और अखंडता ही
हमारे देश की पहचान है,
हिन्दुस्तानी हैं हम और
हिंदी हमारी जुबान है।

भारत के हर एक कोने को
आपस में जो साथ मिलाये,
संपर्क सूत्र का काम करे जो
वो भाषा हिंदी कहलाये।

जिससे जुड़े हैं सपने मेरे
जिससे जुड़े हुए अरमान,
हिंदी बस भाषा नहीं
हिंदी है मेरी जान।

हिंदी आशीर्वाद सी है
अंग्रेजी एक आफत है,
हिंदी मात्र भाषा नहीं
हिंदी हमारी विरासत है।

बदलेंगे हालात हमारे
ये धरा भी मुस्कुराएगी,
जन-जन की भाषा हिंदी जब
दिल से अपनाई जाएगी।

देश बढ़ेगा आगे यदि
सबकी आशा एक हो,
मत भी सबका एक हो
भाषा भी सबकी एक हो।

बिछड़ जायेंगे हमारे अपने हमसे
अगर अंग्रेजी टिक जाएगी,
मिट जायेगा वजूद हमारा
अगर हिंदी मिट जाएगी।

सम्मान जो खोया है इसने
हमें उसको वापस लौटाना है,
अस्तित्व न खो दे अपना ये
हिंदी को हमें बचाना है।

विविधताओं से भरे इस देश में
लगी भाषाओं की फुलवारी है,
जिसमें हमको सबसे प्यारी
हिंदी मातृभाषा हमारी है।

बिन इसके अधूरा हूँ मैं
मेरी हालत ऐसी है,
इसके बिना मेरा क्या जीवन
हिंदी मेरी माँ जैसी है।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

  • Hindi Diwas Shayari Shubhkamnaye
  • Hindi Diwas Shubkamna Shayari
  • 14 September Hindi Diwas Shayari
  • 14 September Hindi Diwas Shayari
  • 14 September Hindi Diwas Shubkamna Shayari
  • 14 September Hindi Diwas Shubkamna Shayari
  • 14 September Hindi Diwas Ki Shubhkamnaye

Leave a comment