Hussain Tumne Marne Ko Jina Bana Diya

Muharram Mubarak
दश्त-ए-बाला को अर्श का जीना बना दिया,
जंगल को मुहम्मद का मदीना बना दिया,
हर जर्रे को नज़फ का नगीना बना दिया,
हुसैन तुमने मरने को जीना बना दिया.
मुहर्रम मुबारक

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

  • Muharram Mubarak Shayari
  • Muharram Mubarak Shayari
  • Muharram Mubarak Shayari
  • Muharram Mubarak Shayari
  • Muharram Mubarak Shayari

Leave a comment