Jism Ki Saja Me Ruh Ki Gunahgar Hu

जिस्म की सजा में , रूह की गुनहगार हूँ।
वक्त के दस्तूर में लिपटी, फासलों से घिरी तेरा प्यार हूँ। 🙂

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

  • Palko Ki Halchal Ko Ikrar Kahte Hai
  • Barso Se Ek Hi Phool Se Mohabba

Leave a comment