Meerabai Ke Dohe – Manmohan Kanha Vinti Karu

Meerabai Ke DoheDownload Image
मनमोहन कान्हा विनती करूं दिन रैन
राह तके मेरे नैन
अब तो दरस देदो कुञ्ज बिहारी
मनवा हैं बैचेन
नेह की डोरी तुम संग जोरी
हमसे तो नहीं जावेगी तोड़ी
हे मुरली धर कृष्ण मुरारी
तनिक ना आवे चैन
राह तके मेरे नैन ……..

मै म्हारों सुपनमा
लिसतें तो मै म्हारों सुपनमा

अर्थ:
मीरा अपने भजन में भगवान् कृष्ण से विनती कर रही हैं कि हे कृष्ण ! मैं दिन रात तुम्हारी राह देख रही हूँ. मेरी आँखे तुम्हे देखने के लिए बैचेन हैं मेरे मन को भी तुम्हारे दर्शन की ही ललक हैं.मैंने अपने नैन केवल तुम से मिलाये हैं अब ये मिलन टूट नहीं पायेगा. तुम आकर दर्शन दे जाओं तब ही मिलेगा मुझे चैन.

This picture was submitted by Smita Haldankar.

See More here: Meerabai Jayanti

Tag:

More Pictures

  • Meerabai Ke Dohe – Mere To Giridhar Gopal
  • Meerabai Ke Dohe
  • Meerabai Jayanti Message
  • Happy Meerabai Jayanti
  • Meerabai Hindi Shayari
  • Best Meerabai Hindi Poem
  • Meerabai Jayanti In Hindi
  • Meerabai Jayanti Hindi Shayari

Leave a comment