Saraswati Avahan Mantra

Saraswati Avahan MantraDownload Image
या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।
या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता
सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥

श्लोक अर्थ – जो विद्या की देवी भगवती सरस्वती कुन्द के फूल, चन्द्रमा, हिमराशि और मोती के हार की तरह धवल वर्ण की हैं और जो श्वेत वस्त्र धारण करती हैं, जिनके हाथ में वीणा-दण्ड शोभायमान है, जिन्होंने श्वेत कमलों पर आसन ग्रहण किया है तथा ब्रह्मा, विष्णु एवं शंकर शङ्कर आदि देवताओं द्वारा जो सदा पूजित हैं, वही सम्पूर्ण जड़ता और अज्ञान को दूर कर देने वाली माँ सरस्वती हमारी रक्षा करें।

See More here: Saraswati Avahan

Tag:

More Pictures

  • Saraswati Avahan Aarti
  • SARSWATI AVAHAN PUJA -SARSWATI  MANTRA
  • Devi Saraswati Mul Mantra
  • Devi Saraswati Sampurn Mantra
  • Devi Saraswati Mantra For Study
  • Devi Saraswati Mantra For Examination
  • SARASWATI PUJA - SARSWATI MANTRA
  • Devi Saraswati Mantra To Increase Memory Capacity
  • Shri Saraswati Chalisa

Leave a comment