SHUBH SANDHYA

Good Evening Shayari
हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली;
कुछ यादें मेरे संग पांव पांव चली;
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ;
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली।
शुभ संध्या..!!

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

  • Good Evening Shayari

Leave a comment