Suprabhat – In Tazi Hawa Me Fulo Ki Mahak Ho


इन ताज़ी हवाओं में फूलों की महक हो;
पहली किरण में पंछियों की चहक हो;
जब भी खोलो आप अपनी पलकें;
उन पलकों में बस खुशियों की झलक हो।
सुप्रभात!

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

  • Suprabhat Shayari
  • Suprabhat
  • Suprabhat Hindi Shayari
  • Suprabhat Shayari

Leave a comment