Vakt Noor Ko Benoor Kar Deta Hai


वक़्त नूर को बेनूर कर देता है,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,
कौन चाहता है अपनों से दूर रहना,
पर वक़्त सबको मजबूर कर देता है।

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

  • KUCHH RISHTE ISS JAHAN MEIN KHAS HOTE HAI

Leave a comment