Maya Mui Na Man Muaa, Mari Mari Gaya Sarir


माया मुई न मन मुआ, मरी मरी गया सरीर.
आसा त्रिसना न मुई, यों कही गए कबीर .

अर्थ :
कबीर कहते हैं कि संसार में रहते हुए न माया मरती है न मन. शरीर न जाने कितनी बार मर चुका पर मनुष्य की आशा और तृष्णा कभी नहीं मरती, कबीर ऐसा कई बार कह चुके हैं.

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

Leave a comment