Shubh Prabhat Jai Jinendra Images And Quotes (शुभ प्रभात जय जिनेन्द्र इमेजेस एवं कोट्स )

Shubh Prabhat Shri Mahaveer Prabhu
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
रहे सदा सत्संग उन्ही का ध्यान उन्ही का नित्य रहे हैं
उन्ही जैसी चर्या में यह चित्त सदा अनुरक्त रहे हैं
नहीं सताऊ किसी जीव को झूठ कभी नहीं कहा करू
परधन वनिता पर न लुभाऊ, संतोशामृत पीया करू ||

Shubh Prabhat Mahavir
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
अहंकार का भाव न रखु नहीं किसी पर क्रोध करू
देख दुसरो की बढती को कभी न इर्ष्या भाव धरु
रहे भावना ऐसी मेरी, सरल सत्य व्यव्हार करू
बने जहा तक इस जीवन में, औरो का उपकार करू||

Shri Mahaveer Prabhu Shubh Prabhat
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
गुनी जनों को देख ह्रदय में मेरे प्रेम उमड़ आवे
बने जहाँ तक उनकी सेवा करके यह मन सुख पावे
होऊ नहीं कृतघ्न कभी में द्रोह न मेरे उर आवे
गुण ग्रहण का भाव रहे नित दृष्टी न दोषों पर जावे ||

Shubh Prabhat Mahaveer
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
मैत्री भाव जगत में मेरा सब जीवो से नित्य रहे
दींन दुखी जीवो पर मेरे उर से करुना – स्रोत बहे
दुर्जन क्रूर कुमार्ग रतो पर क्षोभ नहीं मुझको आवे
साम्यभाव रखु में उन पर, ऐसी परिणति हो जावे ||

Shubh Prabhat Mahaveer Prabhu Sandesh
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
कोई बुरा कहो या अच्छा लक्ष्मी आवे या जावे
लाखों वर्षो तक जीउ या मृत्यु आज ही आ जावे
अथवा कोई कैसा ही भय या लालच देने आवे
तो भी न्याय मार्ग से मेरा कभी न पद डिगने पावे ||

Shubh Prabhat Jai Jinendra
शुभ प्रभात जय जिनेन्द्र

Shubh Prabhat Shree Mahaveer Prabhu
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
फैले प्रेम परस्पर जगत में मोह दूर हो राह करे
अप्रिय कटुक कठोर शब्द नहीं कोई मुख से कहा करे
बनकर सब “युगवीर” ह्रदय से देशोंनती रत रहा करें
वस्तु स्वरुप विचार खुशी से सब संकट सहा करे ||

Shubh Prabhat Jai Jinendra
शुभ प्रभात जय जिनेन्द्र

Shubh Prabhat Shubh Divas Jai Jinendra
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
इति भीती व्यापे नहीं जग में वृष्टी समय पर हुआ करे
धर्मनिस्ट होकर राजा भी न्याय प्रजा का किया करे
रोग मरी दुर्भिक्ष न फैले प्रजा शांति से जिया करे
परम अहिंसा धर्म जगत में फ़ैल सर्व हित किया करे ||

Shubh Prabhat Jai Jinendra

Shubh Prabhat Jai Jinendra
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
सुखी रहे सब जीव जगत के कोई कभी न घबरावे
बैर पाप अभिमान छोड़ जग नित्य नए मंगल गावे
घर घर चर्चा रहे धर्मं की दुष्कृत दुष्कर हो जावे
ज्ञान चरित उन्नत कर अपना मनुज जन्म फल सब पावे ||

Shubh Prabhat Jai Jinendra

Shubh Prabhat Jai Jinendra
शुभ प्रभात शुभ दिवस जय जिनेन्द्र
विषयो की आशा नहि जिनके साम्य भाव धन रखते हैं
निज परके हित-साधन में जो निश दिन तत्पर रहते हैं
स्वार्थ त्याग की कठिन तपस्या बिना खेद जो करते हैं
ऐसे ज्ञानी साधू जगत के दुःख समूह को हरते हैं ||

Shubh Prabhat Jai Jinendra

Shubh Prabhat Mahavir Prabhu
शुभ प्रभात शुभ दिवस श्री महावीर प्रभु
होकर सुख में मग्न न फूले दुःख में कभी न घबरावे
पर्वत नदी श्मशान भयानक अटवी से नहीं भय खावे
रहे अडोल अकंप निरंतर यह मन द्रिन्तर बन जावे
इस्ट वियोग अनिस्ठ योग में सहन- शीलता दिखलावे ||

Shubh Prabhat Jai Jinendra Image

Shubh Prabhat Shri Mahavir
शुभ प्रभात शुभ दिवस श्री महावीर प्रभु
जिसने राग द्वेष कामादिक जीते सब जग जान लिया
सब जीवोको मोक्षमार्ग का निस्पृह हो उपदेश दिया
बुध्ध, वीर, जिन, हरि, हर, ब्रम्हा, या उसको स्वाधीन कहो
भक्ति-भाव से प्रेरित हो यह चित्त उसी में लीन रहो ||

Shubh Prabhat Jai Jinendra

More Pictures

  • Lord Mahavir Quotes
  • Jai Mahavir Prabhu
  • Lord Mahavir Ke Anmol Kathan

Leave a comment