Ram Charit Manas – Sant Asantahi Ki Aisi Karni

Ram Charit Manas - Sant Asantahi Ki Aisi KarniDownload Image
संत असंतन्हि कै असि करनी। जिमि कुठार चंदन आचरनी॥
काटइ परसु मलय सुनु भाई। निज गुन देइ सुगंध बसाई॥
सुनहु असंतन्ह केर सुभाऊ। भूलेहुँ संगति करिअ न काऊ॥
तिन्ह कर संग सदा दुखदाई। जिमि कपिलहि घालइ हरहाई॥
भावार्थ –
संत और असंतों की करनी ऐसी है जैसे कुल्हाड़ी और चंदन। कुल्हाड़ी चंदन को
काटती है। क्योंकि उसका स्वभाव या काम ही वृक्षों को काटना है, किंतु चंदन
अपने स्वभाववश अपना गुण देकर उसे सुगंध से सुवासित कर देता है॥
असंतों दुष्टों का स्वभाव सुनो, कभी भूलकर भी उनकी संगति नहीं करनी
चाहिए। उनका संग सदा दुःख देने वाला होता है।

This picture was submitted by Sunil Sharma.

More Pictures

  • Ram Charit Manas Shlok
  • Bolo Sita Ram Darbar Ki Jai
  • Bol Sita Ram Darbar Ki Jay
  • Ram Ram Boliye Bada Achha Lagata Hai
  • Ram Ramaiya Gai Ja Ram Se Lagan Lagai Ja
  • Ram hi to karuna me hai, Shanti me Ram hai
  • Ram Sita
  • Shri Ram

Leave a comment