CHANDRAGHANTA MATA


माँ ‘चंद्रघंटा मंत्र –
या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
पिण्डज प्रवरारुढ़ा चण्डकोपास्त्र कैर्युता |
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्र घंष्टेति विश्रुता ||

भगवती माँ दुर्गा जी की तीसरी शक्ति का नाम ‘चंद्रघंटा’ है !
नवरात्री उपासना में तीसरे दिन इन्ही के विग्रह का पूजन-अर्चन किया जाता है !
इनका यह स्वरुप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है !
इनके मस्तक में घंटे का आकार का अर्धचंद्र हैं ,
इसी कारण इन्हें ‘चंद्रघंटा’ देवी भी कहा जाता हैं ! 

This picture was submitted by Smita Haldankar.

See More here: Nav Durga Shakti

Tag:

More Pictures

  • Maa Durga Ka Tisra Swaroop Maa Chandraghanta

Leave a comment