Search

APNI AZADI KO HUM HARGIZ MITA SAKTE NAHI HINDI LYRICS

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars 20

Download Image
APNI AZADI KO HUM HARGIZ MITA SAKTE NAHI HINDI LYRICS
अपनी आज़ादी को हम,
हरगिज़ मिटा सकते नहीं,
सर कटा सकते हैं लेकिन,
सर झुका सकते नहीं।।

हमने सदियों में ये आज़ादी,
की नेमत पाई है,
सैंकड़ों कुर्बानियाँ देकर,
ये दौलत पाई है,


मुस्कुरा कर खाई हैं,
सीनों पे अपने गोलियां,
कितने वीरानो से गुज़रे हैं,
तो जन्नत पाई है,
ख़ाक में हम अपनी इज्ज़़त,
को मिला सकते नहीं,
अपनी आज़ादी को हम,
हरगिज़ मिटा सकते नहीं।।

क्या चलेगी ज़ुल्म की,
अहले-वफ़ा के सामने
आ नहीं सकता कोई,
शोला हवा के सामने
लाख फ़ौजें ले के आए,
अमन का दुश्मन कोई
रुक नहीं सकता हमारी,
एकता के सामने
हम वो पत्थर हैं जिसे दुश्मन,
हिला सकते नहीं
अपनी आज़ादी को हम,
हरगिज़ मिटा सकते नहीं।।

वक़्त की आवाज़ के हम,
साथ चलते जाएंगे
हर क़दम पर ज़िन्दगी का,
रुख बदलते जाएंगे
गर वतन में भी मिलेगा,
कोई गद्दारे वतन
अपनी ताकत से हम उसका,
सर कुचलते जाएंगे
एक धोखा खा चुके हैं,
और खा सकते नहीं
अपनी आज़ादी को हम,
हरगिज़ मिटा सकते नहीं।। 

हम वतन के नौजवाँ है,
हम से जो टकरायेगा
वो हमारी ठोकरों से,
ख़ाक में मिल जायेगा
वक़्त के तूफ़ान में बह,
जाएंगे ज़ुल्मो-सितम
आसमां पर ये तिरंगा,
उम्र भर लहरायेगा
जो सबक बापू ने सिखलाया,
भुला सकते नहीं,
अपनी आज़ादी को हम,
हरगिज़ मिटा सकते नहीं।। 

This picture was submitted by Smita Haldankar.

HTML Embed Code
BB Code for forums
See More here: Desh Bhakti Song In Hindi, Patriotic Song In Hindi

Contributor:

More Pictures

  • मेरे देश का झंडा 'तिरंगा'

Leave a comment