Gopal Kala Dahi Handi Greeting

Gopal Kala Dahi Handi Greeting
गगनभेदी ढोलों की आवाज़ पर
थिरकती लावणी
और संग संग थिरकती ये धरा,
बारिश की फुहार,
गुलाल की बहार,
मस्ती में मगन गोविंदाओं की टोली,
बादलों के उस पार जाती दही हांडी,
और दही हांडी के पार जाती ,
गोविंदाओं की ऊँची मीनारें,
पल भर में ढह जाती बालू के ढेर सी,
अगले ही पल फिर उठ जाती शेर सी,
न डरती, न थकती, हांडी तोड़कर ही दम भरती,
मस्ती में मगन गोविंदाओं की टोली..

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

Leave a comment