Mahavir Jayanti Shubhkamna Shayari

Mahavir Jayanti
गुनी जनों को देख ह्रदय में मेरे प्रेम उमड़ आवे
बने जहाँ तक उनकी सेवा करके यह मन सुख पावे
होऊ नहीं कृतघ्न कभी में द्रोह न मेरे उर आवे
गुण ग्रहण का भाव रहे नित दृष्टी न दोषों पर जावे ||
महावीर जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

  • Mahavir Jayanti
  • Mahavir Jayanti
  • Mahavir Jayanti
  • Mahavir Jayanti
  • Mahavir Jayanti
  • Mahavir Jayanti
  • Shubh Mahavir Jayanti
  • Jai Mahavir Jayanti
  • Shubh Mahavir Jayanti

Leave a comment