SUPRABHAT


फूल बनकर मुस्कुराना जिन्दगी है,
मुस्कुरा के गम भूलाना जिन्दगी है,
मिलकर लोग खुश होते है तो क्या हुआ,
बिना मिले दोस्ती निभाना भी जिन्दगी है
सुप्रभात

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

  • Suprabhat Prernatmak Shayari

Leave a comment