Kahat Soonat Sab Din Gaye, Urzi Na Surzya Man


कहत सुनत सब दिन गए, उरझि न सुरझ्या मन.
कही कबीर चेत्या नहीं, अजहूँ सो पहला दिन.

अर्थ :
कहते सुनते सब दिन निकल गए, पर यह मन उलझ कर न सुलझ पाया. कबीर कहते हैं कि अब भी यह मन होश में नहीं आता. आज भी इसकी अवस्था पहले दिन के समान ही है.

This picture was submitted by Smita Haldankar.

More Pictures

Leave a comment